NVIDIA की मार्केट कैप $3.335 ट्रिलियन तक पहुंची, स्टॉक प्राइस में जबरदस्त उछाल

नवीनतम तकनीक और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (AI) के उभरते केंद्र में स्थित स्टार्टअप, NVIDIA, दुनिया की सबसे मूल्यवान कंपनी बन गई है, जिसने Microsoft को शीर्ष स्थान से हटा दिया है।

  1. मार्केट कैपिटलाइज़ेशन: NVIDIA की बाजार पूंजीकरण मंगलवार को $3.335 ट्रिलियन तक पहुंच गई क्योंकि इसके शेयरों में 3.5 प्रतिशत की वृद्धि होकर $135.58 हो गई।
  2. दूसरी सबसे मूल्यवान कंपनी: यह सफलता सैंटा क्लारा, कैलिफोर्निया स्थित कंपनी द्वारा Apple को पार करने के कुछ ही दिनों बाद आई है, जिससे यह दुनिया की दूसरी सबसे मूल्यवान कंपनी बन गई।
  3. प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के शेयर: Microsoft और Apple, जो क्रमशः दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं, के शेयरों में क्रमशः 0.45 प्रतिशत और 1.1 प्रतिशत की गिरावट आई।
  4. स्टॉक मार्केट पर प्रभाव: NVIDIA की इस शानदार वृद्धि ने S&P 500 और Nasdaq इंडेक्स को रिकॉर्ड उच्च स्तर पर पहुंचा दिया है।
  5. AI चिप्स की मांग: टेक दिग्गज जैसे Microsoft, Meta और Google द्वारा NVIDIA के चिप्स की भारी मांग के कारण, कंपनी के स्टॉक प्राइस में इस साल अकेले लगभग 182 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जबकि 2023 में यह तीन गुना हो गई थी।
  6. बाजार में हिस्सेदारी: NVIDIA डेटा सेंटर्स में इस्तेमाल होने वाले AI चिप्स के बाजार में लगभग 80 प्रतिशत का नियंत्रण रखती है, जो AI मॉडल्स जैसे OpenAI के ChatGPT को चलाने के लिए आवश्यक हैं।
  7. शेयर मार्केट डेब्यू: 1999 में अपने स्टॉक मार्केट डेब्यू के बाद से, NVIDIA के शेयरों में 591,078 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।
  8. निवेशकों का मुनाफा: यदि किसी निवेशक ने 1999 में कंपनी में $10,000 का निवेश किया होता, तो आज वह $59,107,800 मूल्य के स्टॉक का मालिक होता, कोबेइसी लेटर न्यूजलेटर के अनुसार।
  9. शुरुआती फोकस: NVIDIA ने अपने पहले कुछ दशकों में मुख्य रूप से कंप्यूटर गेम्स के लिए चिप्स बनाने पर ध्यान केंद्रित किया था।

इस तरह की प्रभावशाली वृद्धि ने NVIDIA को AI क्षेत्र में अग्रणी बनाया है, जिससे यह निवेशकों के लिए एक आकर्षक विकल्प बन गया है।

Leave a Comment